नेशनल स्टॉक एक्सचेंज क्या है / National Stock Exchange kya hai?

मेरे प्रिय पाठकों अपने पिछले लेख में हम सबने निफ्टी 50 के बारे में तथा निफ्टी 50 में ट्रेडिंग करने के तरीको के बारे में विस्तार से जाना | अब आज के इस लेख में हम सब निफ्टी 50 के पिता(Father of Nifty 50) कहे जाने वाले नेशनल स्टॉक एक्सचेंज(National Stock Exchange) के बारे में विस्तार से समझेंगे | आज के इस लेख में हम सब जानेगे कि शेयर बाज़ार में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज क्या है, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज स्थापना कब हुयी थी, इस एक्सचेंज की स्थापना किस समिति के सिफारिश पर किया गया था |

Table of Contents

स्टॉक एक्सचेंज(stock exchange)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज को जानने से पहले हमें ये जानना पड़ेगा कि शेयर बाज़ार में स्टॉक एक्सचेंज किसे कहा जाता है | स्टॉक एक्सचेंज एक ऐसे प्लेटफार्म का कार्य करती है जो किसी कंपनी के शेयर को इन्वेस्टर को बेचने का कार्य करती है वर्तमान समय में राष्ट्रिय स्टॉक एक्सचेंज तथा अन्य क्षेत्रीय स्टॉक एक्सचेंज सेबी के पास रजिस्टर है |

स्टॉक एक्सचेंज(stock exchange)

पहले इनकी संख्या 30 से ऊपर थी लेकिन बाजार नियामक संस्था सेबी की नई शर्तों और मानकों को पूरा न कर पाने के कारण इनकी संख्या अब घट कर रह गयी है | भारत का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज है, जिसकी स्थापना वर्ष 1875 में किया गया था | यह भारत ही नहीं बल्कि एशिया का पहला शेयर एक्सचेंज(Stock Exchange) है | बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना  प्रेमचंद रॉयचंद  ने की थी, जिन्हें बिग बुल या बुलियन किंग के नाम से जाना जाता है |

  • बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज(राष्ट्रिय स्टॉक एक्सचेंज)
  • नॅशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया (राष्ट्रिय स्टॉक एक्सचेंज)
  • कलकत्ता स्टॉक  एक्सचेंज लिमिटेड( स्थापना वर्ष 1908 )
  • नेशनलकमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लि.( स्थापना वर्ष 2003 )
  • मेट्रोपालिटन, स्टॉक  एक्सचेंज लिमिटेड( स्थापना वर्ष 2008 )
  • मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया लि.( स्थापना वर्ष 2003 )
  • इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज लिमिटेड

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज क्या है / National Stock Exchange kya hai?

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange – NSE) भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है | इस एक्सचेंज की स्थापना वर्ष 1992 में किया गया था | यह भारत का सबसे बड़ा तथा तकनीकी रूप से अग्रणी स्टॉक एक्सचेंज है जिसने पहली बार पेपर आधारित ट्रेडिंग को बंद करके उन्नत इलेक्ट्रानिक ट्रेडिंग सिस्टम को विकसित किया था, जो आज भी प्रचलन में है |

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का मुख्यालय मुम्बई में स्थित है | यदि कारोबार के दृष्टिकोण से देखा जाय तो यह भारत का सबसे बड़ा तथा दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है | जब से नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना की गयी है तब अब तक यह स्टॉक एक्सचेंज एक अच्छे वॉल्यूम वाला एक्सचेंज बना हुआ है | इस नेशनल स्टॉक एक्सचेंज(National Stock Exchange) की स्थापना M.J. शेरवानी समिति की शिफारिश पर किया गया था |

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेडिंग का समय(National Stock Exchange Trading Hours)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के ट्रेडिंग समय को तीन भागों में बाँटा जा सकता है | पहला समय बाज़ार के खुलने से पहले का होता है जिसे Pre-opening sessions तथा दूसरा बाज़ार के खुलने के बाद का होता है जिसे नियमित सत्र (Regular sessions) कहा जाता है |

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेडिंग का समय(National Stock Exchange Trading Hours)

इसके बाद एक तीसरा सत्र होता है जिसे बाज़ार के बंद हो जाने के बाद का सत्र कहा जाता है |

  • बाज़ार खुलने के पहले का सत्र(Pre-opening sessions)
  • नियमित सत्र(Regular sessions)
  • बाज़ार के बंद हो जाने के बाद का सत्र (Post closing session)

बाज़ार खुलने के पहले का सत्र(Pre-opening sessions)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में कंपनी के शेयर के ट्रेडिंग के सत्र का पहला सत्र प्री ओपनिंग सेशन कहलाता है जो ट्रेडिंग दिवस में सुबह 9:00 बजे से लेकर 9:15 तक होता है | बाज़ार के बंद हो जाने के बाद के खबरों तथा कंपनी के हालात पर शेयर बाज़ार के अस्थिरता को कम करने के लिए इस प्री ओपनिंग सेशन(Pre-opening sessions) को बनाया गया है |

इसमें सुबह 9:00 बजे से लेकर 9:07 तक अर्थात आरंभ के 7 मिनट, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज द्वारा आर्डर को एकत्र करने, संशोधन करने तथा रद्द करने का कार्य करती है | यह आर्डर कलेक्शन विंडो(order collection window) 9:07 से 9:08 के मध्य में कभी भी बंद हो सकती है |

इसके बाद 9:08 से लेकर 9:15 तक एक्सचेंज आर्डर का मिलान करती है | मिलान करने के के दौरान एक्सचेंज आर्डर को कैंसल या कम्प्लीट करता है | यदि आपके आर्डर के कीमत पर कोई अन्य सौदागर, सौदा करने के लिए तैयार है तब आपका ट्रेड कम्प्लीट हो जाता है अन्यथा की स्थिति में आपका आर्डर कैंसल हो जायेगा |

नियमित सत्र(Regular sessions)

बाज़ार खुलने के पहले का सत्र(Pre-opening sessions) समाप्त हो जाने के बाद नियमित सत्र आरंभ हो जाता है | यह 9:15 से शुरू होकर सायं 3:30 तक चलता है | इस सत्र में आपको अपने ट्रेड को पूरा करने के लिए इंतजार नहीं करना पड़ता, आप मार्केट प्राइस पर शेयर कभी खरीद या बेच सकते है |

बाज़ार के बंद हो जाने के बाद का सत्र (Post closing session)

शायद आपको अभी तक पता न हो, लेकिन शेयर बाज़ार के नियमित सत्र के समाप्त हो जाने के बाद भी एक सत्र होता है जिसका नाम है बाज़ार के बाद हो जाने के बाद का सत्र या समापन के बाद का सत्र | ये सत्र 3:40 PM पर आरंभ होता है तथा शाम 4:00 PM तक चलता है |

इस सत्र में आप इक्विटी के डिलीवरी सेगमेंट में ही खरीद-बिक्री कर सकते है | इसमें आप CNC में तथा बाज़ार के कीमत पर ही आर्डर प्लेस कर सकते है | इस सत्र में बाज़ार, रेगुलर सत्र की तरह अत्यधिक वोलेटाइल नहीं होता है | इस सत्र के बाज़ार हलचल को आप मार्केट डेप्थ में देख सकते है |

NSE क्लियरिंग लिमिटेड (NSE Clearing Limited)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने नेशनल सिक्योरिटीज़ क्लियरिंग कॉरपोरेशन लिमिटेड (National Securities Clearing Corporation Limited) की स्थापना की थी जो शेयर के खरीद-बिक्री के क्लीयरिंग और सेटलमेंट का कार्य करती है | अब इस नेशनल सिक्योरिटीज़ क्लियरिंग कॉरपोरेशन लिमिटेड(NSCCL) को NSE क्लियरिंग लिमिटेड (NSE Clearing Limited) के नाम से जाना जाता है |

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया के सूचकांक(Indices of National Stock Exchange of India)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया में दो हजार से भी अधिक कंपनियों के शेयर लिस्टेड है | इन कंपनियों के ग्रोथ का आंकलन करने के लिए वर्ष 1996 में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया ने अपना पहला बेचमार्क निफ्टी 50 को बनाया जिसे पहले CNX Nifty के नाम से जाना जाता था लेकिन वर्ष 2015 में इसका नाम बदलकर निफ्टी 50 कर दिया गया |

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया के सूचकांक(Indices of National Stock Exchange of India)

समय व्यतीत होने पर नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया के कुछ अन्य सूचकांक बनाये गए जो इस प्रकार है:-

व्यापक बाज़ार सूचकांक(Broad Market Indices)

क्रम संख्या बेंचमार्क का नाम 
1निफ्टी 50
2निफ्टी मिडकैप 50
3निफ्टी मिडकैप 100
4निफ्टी मिडकैप 150
5निफ्टी स्मालकैप 50
6निफ्टी स्मालकैप 100
7निफ्टी स्मालकैप 250
8निफ्टी मिडस्माल कैप 400
9निफ्टी500 मल्टीकैप 50:25:25
10निफ्टी लार्जमिड कैप 250
11निफ्टी मिडकैप सेलेक्ट
12निफ्टी 500
13निफ्टी नेक्स्ट 50
14निफ्टी 100
15निफ्टी टोटल मार्केट
16निफ्टी माइक्रोकैप 250
17निफ्टी 200
18निफ्टी मिडकैप 250
19इंडिया विक्स

सेक्टर आधारित सूचकांक(Sectoral  based Indices)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के व्यापक बाज़ार सूचकांक को बना लेने के बाद सेक्टोरल ग्रोथ के आंकलन करने के लिए सेक्टर वाइज सूचकांक की आवश्यकता पड़ी | शेयर बाज़ार में कार्य करने वाली कंपनियां अपने-अपने सेक्टर में कार्य करती है | हर सेक्टर से अच्छी तथा बड़ी कंपनियों को मिलाकर उनका सूचकांक तैयार किया गया है ताकि उस सेक्टर के ग्रोथ का अंदाजा लगाया जा सके |

कुछ सेक्टोरल बेचमार्क इस प्रकार है:-

क्रम संख्या सूचकांक का नाम   सूचकांक का सेक्टर
1निफ्टी बैंकबैंकिंग सेक्टर
2निफ्टी ऑटोऑटो सेक्टर
3निफ्टी फ़ाइनेंशियल सर्विसफ़ाइनेंशियल सर्विस सेक्टर
4निफ्टी फ़ाइनेंशियल सर्विस 25/50फ़ाइनेंशियल सर्विस सेक्टर
5निफ्टी FMCGतेज़ी से बिकने वाली उपभोक्ता वस्तुएँ सेक्टर
6निफ्टी ITसूचना प्रौद्योगिकी सेक्टर
7निफ्टी मिडियामिडिया सेक्टर
8निफ्टी मेटलमेटल सेक्टर
9निफ्टी फार्माफार्मा सेक्टर
10निफ्टी PSU बैंकPSU बैंकिंग सेक्टर
11निफ्टी प्राईवेट बैंकप्राईवेट बैंकिंग सेक्टर
12निफ्टी रियल्टीरियल्टी सेक्टर
13निफ्टी हेल्थ केयर इंडेक्सहेल्थ केयर सेक्टर
14निफ्टी कंज्यूमर ड्यूरेबल्सकंज्यूमर ड्यूरेबल्स सेक्टर
15निफ्टी ऑइल एंड गैसऑइल एंड गैस सेक्टर

रणनीति इंडेक्स(Strategy Indices)

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया के इन महत्वपूर्ण इंडेक्स के अलावा 40 अन्य इंडेक्स है जिन्हें रणनीति इंडेक्स(Strategy Indices) के नाम से जाना जाता है | ये सभी इंडेक्स किसी न किसी सेक्टर या किसी न किसी ग्रुप का प्रतिनिधित्व करती है | 

ऐसा नहीं है कि इंडेक्स में किसी सेक्टर या ग्रुप की सारी कंपनियों को शामिल किया जाना आवश्यक होता है बल्कि उस सेक्टर या ग्रुप कि बड़ी-बड़ी तथा मुख्य कंपनियों को शामिल कर इंडेक्स बनाया जाता है | नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के किसी भी इंडेक्स में शामिल होने के लिए पहली तथा बड़ी शर्त ये है कि कंपनी का भारतीय होना आवश्यक है | इस नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के किसी भी इंडेक्स में शामिल होने की दूसरी शर्त है कि कंपनी को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट होना आवश्यक है |

इस लेख से सम्बंधित प्रश्नोत्तरी

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज से आप क्या समझते हैं?

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange – NSE) भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है | इस एक्सचेंज की स्थापना वर्ष 1992 में किया गया था | यह भारत का सबसे बड़ा तथा तकनीकी रूप से अग्रणी स्टॉक एक्सचेंज है जिसने पहली बार पेपर आधारित ट्रेडिंग को बंद करके उन्नत इलेक्ट्रानिक ट्रेडिंग सिस्टम को विकसित किया था, जो आज भी प्रचलन में है |

NSE का मतलब क्या होता है?

NSE अर्थात National Stock Exchange भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है | इस एक्सचेंज की स्थापना वर्ष 1992 में किया गया था | यह भारत का सबसे बड़ा तथा तकनीकी रूप से अग्रणी स्टॉक एक्सचेंज है |

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का दूसरा नाम क्या है?

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange) भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है | इसे NSE भी कहा जाता है |

स्टॉक एक्सचेंज की कुल संख्या कितनी है?

पहले इनकी संख्या 30 से ऊपर थी लेकिन बाजार नियामक संस्था सेबी की नई शर्तों और मानकों को पूरा न कर पाने के कारण इनकी संख्या अब घट कर 7 रह गयी है | भारत का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज है, जिसकी स्थापना वर्ष 1875 में किया गया था |

भारत में कितने राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज हैं?

वर्तमान समय में 2 राष्ट्रिय स्टॉक एक्सचेंज तथा 5 अन्य क्षेत्रीय स्टॉक एक्सचेंज सेबी के पास रजिस्टर है |
1. बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज(राष्ट्रिय स्टॉक एक्सचेंज)
2. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया (राष्ट्रिय स्टॉक एक्सचेंज)

भारत का पहला स्टॉक एक्सचेंज कौन है?

भारत का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज है, जिसकी स्थापना वर्ष 1875 में किया गया था | यह भारत ही नहीं बल्कि एशिया का पहला शेयर एक्सचेंज(Stock Exchange) है | बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना प्रेमचंद रॉयचंद ने की थी, जिन्हें बिग बुल या बुलियन किंग के नाम से जाना जाता है |

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज कहाँ स्थित है?

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का मुख्यालय मुम्बई में स्थित है | यदि कारोबार के दृष्टिकोण से देखा जाय तो यह भारत का सबसे बड़ा तथा दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है | जब से नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना की गयी है तब अब तक यह स्टॉक एक्सचेंज एक अच्छे वॉल्यूम वाला एक्सचेंज बना हुआ है |

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में कितनी कंपनी है?

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया में अज दिनांक 28 जनवरी 2024 तक कुल 2230 कंपनियों के शेयर लिस्टेड है |

आज हमने जाना(Today We Learned)

आज नेशनल स्टॉक एक्सचेंज क्या है / National Stock Exchange Kya Hai? के इस लेख में हम सबने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज क्या है, इसकी स्थापना कब हुयी थी, यह एक्सचेंज किस समिति की सिफारिस पर बनाया था, इस एक्सचेंज में ट्रेडिंग का समय क्या है, ट्रेडिंग के सत्र कौन कौन से है के साथ साथ हम सबने इस एक्सचेंज के सभी इंडेक्स को जाना |

मुझे आशा है कि अब आपको नेशनल स्टॉक एक्सचेंज से सम्बंधित समस्त प्रकार के सवालो के जवाब मिल गए होंगे | यदि आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें |

यदि आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो तो आप हमें contact@finohindi.com पर मेल करें या आप हमें कमेन्ट भी कर सकते है | आप हमसे लगातर जुड़े रहने के लिए आप हमारे Facebook पेज, Twitter पेज तथा Telegram चैनल पर हमें Follow भी कर सकते है |

🔆🔆🔆🔆🔆

Sharing Is Caring:

हेल्लो दोस्तों, मै पिछले 8 वर्षो से शेयर बाज़ार में निवेश तथा रिसर्च कर रहा हूँ | मै अपने अनुभव को Finohindi के माध्यम से आपके साथ सच्चाई के साथ सीधे तथा साफ शब्दों में बाटना चाहता हूँ | यदि आप शेयर बाज़ार में निवेश, ट्रेड करते है या आपकी शेयर बाज़ार में रूचि है तो आप सही जगह पर है

Leave a Comment

स्पिनिंग टॉप कैंडलस्टिक पैटर्न / Spinning Top Candlestick Pattern आवधिक कॉल नीलामी क्या है / Periodic Call Auction in Hindi मॉर्निंग स्टार कैंडलस्टिक पैटर्न / Morning Star Candlestick Pattern In Hindi GSM कैटेगरी क्या है / GSM Category Meaning In Hindi तीन काले कौवे कैंडलस्टिक पैटर्न / Three Black Crows Candlestick Pattern Full Details In Hindi