Moving Average क्या होता है | SMA तथा EMA को कैसे समझे Full Details

मेरे प्रिय पाठकों आज के इस लेख Moving Average क्या होता है | SMA तथा EMA को कैसे समझे में शेयर बाज़ार प्रयोग होने वाले Moving Average को विस्तार से पढेंगे तथा जानेगे कि ये क्या होता है, ये कितने प्रकार का होता है, SMA (Simple Moving Average) तथा EMA(exponential moving average) क्या होता है, तथा एक ट्रेडर Moving Average प्रयोग कर कैसे ट्रेड करता है |

Table of Contents

मूविंग एवरेज क्या होता है / Moving Average kya hota hai

मेरे प्रिय दोस्तों आपने अपने बचपन की पढाई में किसी संख्या का औसत निकालना तो सिखा ही होगा | यह औसत भी उसी प्रकार का औसत होता है | इसलिए मूविंग एवरेज(Moving Average) को समझने के लिए आपको सबसे पहले किसी संख्या का औसत निकालना समझना होगा | 

जैसे कोई संख्या 8, 45, 62, 12, 58,91, है अब यदि हमें इनका औसत निकालना होगा तब हम सभी राशियों का योग में कुल संख्या से भाग दे दिया जाता है | अतः इन संख्या का

औसत(Average) = राशियों का योग / राशियों की संख्या

औसत = (8+45+62+12+58+91) / 6

औसत = 276 / 6

औसत = 46

ये तो हुई साधारण संख्या का औसत | ठीक इसी प्रकार से किसी कंपनी के शेयर जब शेयर बाज़ार में टेड करते है तब एक निश्चित समय में उस कंपनी के शेयर के कीमत का औसत निकाला जाता है जिसे मूविंग एवरेज कहा जाता है | ये दो प्रकार के होते है |

मूविंग एवरेज के प्रकार / Types of Moving Averages In Hindi

शेयर बाज़ार में आम तौर पर दो प्रकार के मूविंग एवरेज (Moving Average) का प्रयोग किया जाता है |

मूविंग एवरेज के प्रकार / Types of Moving Averages In Hindi

  • साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average) या SMA
  • एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average) या EMA

साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average) या SMA

किसी कंपनी द्वारा एक निश्चित समय में ट्रेड हुए शेयर के कीमतों के औसत को मूविंग एवरेज(Moving Average) या साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average – SMA) कहा जाता है | किसी कंपनी के मूविंग एवरेज को निकालने के लिए उस निश्चित समय में कैंडल के क्लोजिंग प्राइस को ध्यान में रखकर निकला जाता है | यह एक ऐसी सांख्यिकी गणना है जिसके द्वारा किसी कंपनी के वोलेटाइल(Volatile) प्राइस को एक स्मूथ लाइन में बदल दिया जाता है |

आईये इसे एक उदाहरण की सहायता से समझते है:-

मूविंग एवरेज को समझने के लिए हम एक कंपनी सिगाची इण्डस्ट्रीज का पिछले 5 दिनों का मूविंग एवरेज ज्ञात करना हो तब हमें इस कंपनी के पिचले 5 दिनों के क्लोजिंग कीमत को ज्ञात करना होगा | हम मान लेते है कि सिगाची इण्डस्ट्रीज के दिसंबर महीनों के क्लोजिंग कीमत इस प्रकार है:-

सिगाची इण्डस्ट्रीज
दिनदिनांक क्लोजिंग प्राइस
D101-12-202351
D204-12-202351.7
D305-12-202353
D406-12-202355
D507-12-202354
D608-12-202353
D711-12-202356
D812-12-202357
D913-12-202359
D1014-12-202361
D1115-12-202361.5
D1218-12-202361
D1319-12-202362
D1420-12-202362.2
D1521-12-202362.1
D1622-12-202362.5
D1725-12-202363
D1826-12-202362.9
D1927-12-202363.1
D2028-12-202363.4
D2129-12-20236.2

अब यदि इन आंकड़ो के अनुसार हमें दिनांक 08-12-2023 को कंपनी सिगाची इण्डस्ट्रीज के पिछले 5 दिनों का मूविंग एवरेज ज्ञात करना हो तो हमें पिछले 5 दिनों के क्लोजिंग कीमत से उनका औसत निकालना होगा | अतः इस स्थिति में कंपनी का मूविंग एवरेज = दिनांक 01-12-2023 से लेकर 07-12-2023 तक के क्लोजिंग कीमत का औसत | अर्थात

सिगाची इण्डस्ट्रीज
दिनदिनांक क्लोजिंग प्राइस
D101-12-202351
D204-12-202351.7
D305-12-202353
D406-12-202355
D507-12-202354

 

अतः ऐसे में कंपनी का मूविंग एवरेज = 264.7 / 5

                                               = 52.94

ये हुआ दिनांक 08-12-2023 को सिगाची इण्डस्ट्रीज कंपनी का 5 दिन का मूविंग एवरेज | अब हम अगले दिन अर्थात दिनांक 09-12-2023 को इसी कंपनी के 5 दिन का मूविंग एवरेज ज्ञात करेंगे | इसके लिए हमें पिछले 5 दिन(04-12-2023 से 08-12-2023) के क्लोजिंग कीमत का औसत निकालना होगा | अब हमें 01-12-2023 के क्लोजिंग कीमत की कोई आवश्यकता नहीं पड़ेगी | 

सिगाची इण्डस्ट्रीज
दिनदिनांक क्लोजिंग प्राइस
D204-12-202351.7
D305-12-202353
D406-12-202355
D407-12-202354
D508-12-202353

अतः दिनांक 07-12-2023 को कंपनी का मूविंग एवरेज = 266.7 / 5

                                                                         = 53.34

आपने देखा कि हम हर बार 5 नवीनतम आंकड़ो को लेकर औसत निकालते है, इसलिए इसे मूविंग एवरेज के नाम से जाना जाता है | इसी प्रकार हम जैसे जैसे आगे बढ़ते जायेंगे वैसे वैसे 5 दिन के पहले के रिकार्ड को छोड़ते जायेंगे | इसी प्रकार यदि हम इसी माह में आगे के सभी दिवसों का मूविंग एवरेज निकाले तो हमें निम्न डाटा प्राप्त होता है |

सिगाची इण्डस्ट्रीज
दिनदिनांक क्लोजिंग प्राइसपिछले 5 दिनों का औसत 
D101-12-202351 
D204-12-202351.7 
D305-12-202353 
D406-12-202355 
D507-12-202354 
D608-12-20235352.94
D711-12-20235653.34
D812-12-20235754.2
D913-12-20235955
D1014-12-20236155.8
D1115-12-202361.557.2
D1218-12-20236158.9
D1319-12-20236259.9
D1420-12-202362.260.9
D1521-12-202362.161.54
D1622-12-202362.561.76
D1725-12-20236361.96
D1826-12-202362.962.36
D1927-12-202363.162.54
D2028-12-202363.462.72
D2129-12-20236.262.98

इन सभी मूविंग एवरेज को चार्ट पर एक रेखा द्वारा मिलाया जाता है जिसे मूविंग एवरेज लाइन कहा जाता है | इसी मूविंग एवरेज को साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average) अर्थात SMA कहा जाता है | चूँकि यह 5 दिन का मूविंग एवरेज है अतः इसे 5 दिन का साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average) कहा जायेगा | आप इसी प्रकार 10 दिन, 20 दिन, 50 दिन, 100 दिन, 200 दिन या आप जितने दिन का चाहे उतने दिन का साधारण मूविंग एवरेज(SMA) पता कर ट्रेडिंग या निवेश कर सकते है |

ये तो हुआ कि आप इसकी गणना कैसे करेंगे लेकिन शेयर बाज़ार में कार्य करने वाली लगभग सभी ब्रोकर कंपनिया अपने ट्रेडिग प्लेटफार्म में moving average का इंडिकेटर प्रयोग कर मूविंग एवरेज लाइन को आसानी से प्राप्त कर सकते है |

साधारण मूविंग एवरेज का प्रयोग (Use Of Simple Moving Average – SMA)

अब तक हमने जाना कि साधारण मूविंग एवरेज (Simple Moving Average – SMA) क्या होता है तथा इसे कैसे ज्ञात कर सकते है | अब हम जानेंगे कि साधारण मूविंग एवरेज का प्रयोग कब किया जाता है | चूँकि SMA की गणना करने में सभी क्लोजिंग कीमत को समान वेटेज दिया जाता है अतः इसका मूवमेंट EMA की तरह फ़ास्ट नहीं होता है |

साधारण मूविंग एवरेज का प्रयोग (Use Of Simple Moving Average - SMA)

इस कारण से इसका प्रयोग लंबे समय के टाइम फ्रेम पर सही तथा ज्यादा प्रभावशाली होता है | लंबे समय के टाइम फ्रेम का प्रयोग सामान्यतः लंबे समय तक निवेश करने वाले निवेशक करते है | इसमें जब किसी कंपनी का शेयर साधारण मूविंग एवरेज के लाइन को क्रॉस कर ऊपर चली जाती है तब ऐसा माना जाता है कि कंपनी के निवेशक उसकी CMP से अधिक कीमत देने को तैयार है | 

ऐसे में कंपनी का शेयर साधारण मूविंग एवरेज के लाइन को क्रास कर ऊपर निकल जाती है | यह कंपनी के शेयर के कीमत में तेज़ी का संकेत है | लम्बे समय के निवेशक इस संकेत का लाभ उठाते है तथा कंपनी के शेयर खरीदकर अपना मुनाफा बनाते है |

एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average) या EMA

एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average या EMA) एक तकनीकी विश्लेषण है जो SMA की तरह पुराने डाटा की अपेक्षा नए डाटा को ज्यादा वैल्यू देता है | 

आपने अभी-अभी साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average – SMA) को ज्ञात करने के तरीके को विस्तार से समझा तब हमने देखा कि दिनांक 01-12-2023 की क्लोजिंग कीमत उतना ही मायने रखती है जितना कि दिनांक 07-12-2023 का, जबकि ये हमेशा सही नहीं हो सकता है |

हम जानते है शेयर बाज़ार किसी कंपनी के सम्बन्ध में होने वाले सभी सभी घटनाओ को प्राइस इन कर लेती है | अर्थात यदि कंपनी से सम्बंधित कोई ख़राब समाचार होती है तब कंपनी के शेयर डिस्काउंट पर तथा यदि कंपनी से सम्बंधित कोई अच्छी खबर होती है तब कंपनी के शेयर ऊपर जाकर ट्रेड करने लगते है | अतः इससे हम ये कह सकते है कि 1 तारीख की तुलना में 7 तारीख का शेयर प्राइस अधिक भरोसेमंद है या वर्तमान परिवेश को समेटे हुए है |

इसी कारण से एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average या EMA) को ज्ञात करने के लिए नवीनतम कीमत को अधिक वेटेज(Weightage) दिया जाता है | अतः यदि आप 5 दिन(01-12-2023 से 07-12-2023) का एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज ज्ञात करेंगे, तब दिनांक 07-12-2023 के कीमत को सबसे अधिक वेटेज, दिनांक 06-12-2023 के क्लोजिंग कीमत को 07-12-2023 से थोडा कम वेटेज, ठीक इसी प्रकार 05-12-2023 के क्लोजिंग कीमत को 06-12-2023 से थोडा और कम वेटेज दिया जाता है, और इसी तरह यह क्रम चलता रहता है |

अब हम एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average या EMA) के डिफिकल्ट अंकीय गणना पर अपना समय व्यर्थ न करके सीधे इसके प्रयोग पर ध्यान केन्द्रित करते है , क्यों कि सभी ब्रोकिंग कंपनियों के ट्रेडिंग प्लेटफार्म में एक क्लीक पर एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average या EMA) आपके चार्ट पर आ जाता है | 

एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज का प्रयोग (Use Of Exponential Moving Average – SMA)

साधारण मूविंग एवरेज(SMA) एक स्लो प्राइस मूवमेंट वाला मूविंग एवरेज है लेकिन एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज(EMA) शेयर की कीमत के साथ फ़ास्ट मूवमेंट करता है | चूँकि एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज के गणना में हाल के कीमत को ज्यादा महत्व दिया जाता है, उसके पहले के कीमत को कम वेटेज दिया जाता है इस कारण से EMA हाल की कीमतों के एक्शन पर फ़ास्ट रिएक्ट करता है |

यही कारण है कि एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज(EMA) को ज्यादातर शोर्ट टर्म के ट्रेडर प्रयोग करते है | इसमे ट्रेडर खरीदारी तथा बिकवाली दोनों तरफ के ट्रेड लेते है | जब किसी एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज(EMA) के लाइन को कंपनी के शेयर ब्रेक कर निचे आ जाते है तो ऐसा माना जाता है कि लोग कंपनी के शेयर की कीमत से कम कीमत देने को तैयार है इस स्थिति में कंपनी का शेयर निचे गिरने की संभावना होती है |

ठीक इसी प्रकार जब किसी कंपनी का शेयर मूविंग एवरेज के लाइन को क्रॉस कर ऊपर जाता है तब ऐसा माना जाता है कि ट्रेडर कंपनी के वर्तमान बाज़ार मूल्य(CMP) से अधिक कीमत देने को तैयार है | यदि ऐसा है तब कंपनी का शेयर ऊपर जायेगा | 

इसलिए जब किसी एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज(EMA) या साधारण मूविंग एवरेज(SMA) को कोई शेयर ब्रेक आउट करती है तब ट्रेडर खरीदारी में तथा जब ब्रेक डाउन करती है तब ट्रेडर बिकवाली में ट्रेड लेते है तथा अपना मुनाफा बनाते है |

मूविंग एवरेज में टाइम फ्रेम का सही उपयोग

चार्ट में आप जितने दिन का चाहे उतने दिन का मूविंग एवरेज सेट कर मूविंग एवरेज लाइन देख सकते है | लेकिन आपको यह जानना आवश्यक है कि आपके लिए कितने दिन का मूविंग एवरेज सही है | शेयर बाज़ार में मुख्यतः दो तरह के लोग कार्य करते है | पहले शेयर बाज़ार में निवेश करने वाले निवेशक होते है तथा दुसरे शेयर बाज़ार में ट्रेडिंग करने वाले ट्रेडर होते है जो शेयर में ट्रेड कर पैसे कमाते है |

हम यहाँ पर कुछ दिनों के मूविंग एवरेज के बारे में चर्चा करते है जिसका प्रयोग सामान्यतः किया जाता है |

9 DMA तथा 20 DMA

जो ट्रेडर शेयर बाज़ार में शार्ट टर्म के ट्रेडर होते है वो सामान्यतः 9 दिन के मूविंग एवरेज तथा 20 दिन के मूविंग एवरेज का प्रयोग करते है | इनका प्रयोग इंट्राडे के ट्रेडर द्वारा अत्यधिक किया जाता है |

50 DMA

जो ट्रेडर शेयर बाज़ार में मीडियम शार्ट टर्म के लिए कार्य करते है वो सामान्यतः 50 दिन के मूविंग एवरेज का प्रयोग करते है |

200 DMA

जो लोग शेयर बाज़ार में लंबे समय के निवेशक होते है वो अपनी निवेश की स्ट्रेटजी 200 DMA के साथ बनाते है | 200 DMA एक सपोर्ट का कार्य करती है इसलिए जब भी कोई शेयर ट्रेड करते-करते 200 DMA के आस पास पहुचती है तब निवेशक कंपनी के शेयर में निवेश करते है | यदि किसी कंपनी का शेयर 200 DMA के निचे ट्रेड कर रही होती है तो इसका अर्थ है कि कंपनी डाउन ट्रेंड में चली गयी है ऐसे में हमें निवेश नहीं करना चाहिए |

मूविंग एवरेज क्रॉसओवर (Moving Average Crossover)

मूविंग एवरेज क्रॉसओवर (Moving Average Crossover) में हमें दो मूविंग एवरेज को सेटअप करना होता है | पहला कम समय का मूविंग एवरेज दूसरा अधिक दिनों का मूविंग एवरेज | जैसे आपने 50 दिन DMA तथा 100 DMA का सेटअप कर लिया है तब 50 दिन के मूविंग एवरेज को तेज मूविंग एवरेज(Fast Moving Average) 100 दिन के मूविंग एवरेज को धीमी मूविंग एवरेज(Slow Moving Average) कहा जाता है |

मूविंग एवरेज क्रॉसओवर (Moving Average Crossover)

जब कोई तेज मूविंग एवरेज(Fast Moving Average) किसी धीमी मूविंग एवरेज(Slow Moving Average) को निचे से क्रॉस करके ऊपर निकल जाती है तो ट्रेडर खरीदारी में या लॉन्ग में अपनी पोजिशन बनाते है | ठीक इसी तरह यदि तेज मूविंग एवरेज(Fast Moving Average) किसी धीमी मूविंग एवरेज(Slow Moving Average) को ऊपर से क्रॉस कर निचे आ जाये तो ट्रेडर बिकवाली में ट्रेड बनाते है |

False Signals से कैसे बचे

ऐसा नहीं है कि इन मूविंग एवरेज द्वारा दिया गया सिग्नल हमेशा सही ही होते है | कभी कभी बाज़ार की वोलैटिलिटी के कारण इनके signal गलत भी साबित हो जाते है | अतः बेहतर है कि आप इन सिग्नल के साथ कैंडलस्टिक पैटर्न तथा टेक्निकल एनालिसिस का बेहतर ज्ञान अवश्य अर्जित करें | ये आपको शेयर के ट्रेंड तथा चाल को समझने में सहायता करेंगे |

यदि आप नए ट्रेडर है तथा मूविंग एवरेज से ट्रेडिंग करना चाहते है तब आपको “ट्रेडिंग कैसे सीखे” लेख को अवश्य पढ़ना चाहिए | अपने ट्रेडिंग के शुरुआती दिनों में कम पूंजी के साथ ट्रेड करें | कम पूंजी से ट्रेड करने पर आपको लर्निंग के साथ अर्निंग भी होती रहेगी |

इस लेख से सम्बंधित प्रश्नोत्तरी:-

मूविंग एवरेज से आप क्या समझते हैं?

किसी कंपनी द्वारा एक निश्चित समय में ट्रेड हुए शेयर के कीमतों के औसत को मूविंग एवरेज(Moving Average) या साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average – SMA) कहा जाता है | किसी कंपनी के मूविंग एवरेज को निकालने के लिए उस निश्चित समय में कैंडल के क्लोजिंग प्राइस को ध्यान में रखकर निकला जाता है | यह एक ऐसी सांख्यिकी गणना है जिसके द्वारा किसी कंपनी के वोलेटाइल(Volatile) प्राइस को एक स्मूथ लाइन में बदल दिया जाता है |

मूविंग एवरेज कैसे देखें?

मूविंग एवरेज किसी कंपनी या इंडेक्स के क्लोजिंग कीमत से निकला जाता है | यह मूविंग एवरेज आपके ट्रेडिंग प्लेटफार्म में आसानी से उपलब्ध होता है | आपके एक क्लिक पर मूविंग एवरेज लाइन आपके सामने आ जाएगी | एक ट्रेडर बुलिश क्रास ओवर या बेयरिश क्रास ओवर पर ट्रेड लेकर अपना मुनाफा बनाते है |

200 मूविंग एवरेज का मतलब क्या होता है?

200 मूविंग एवरेज या 200 DMA का अर्थ है कि आप जिस बिंदी पर अपना कलम रखते है वह बिंदु अपने 200 दिन पहले तक क्लोजिंग कीमत के औसत से बना है | 200 DMA का प्रयोग सामान्यतः लंबे समय के निवेशक या ट्रेडर करते है |in मूविंग एवरेज लाइन में उतार चढाव बहुत कम होता है |

मूविंग एवरेज कितने प्रकार के होते है?

शेयर बाज़ार में आम तौर पर दो प्रकार के मूविंग एवरेज (Moving Average) का प्रयोग किया जाता है |
1) साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average) या SMA
2) एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average) या EMA

एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज क्या होता है?

एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average या EMA) एक तकनीकी विश्लेषण है जो पुराने डाटा की अपेक्षा नए डाटा को ज्यादा वैल्यू देता है |

शेयर बाजार में 50 डीएमए क्या है?

शेयर बाजार में 50 डीएमए का अर्थ 50 दिन के मूविंग एवरेज से है | 50 DMA को ज्ञात करने के लिए पिछले 50 ट्रेडिंग दिवस के क्लोजिंग कीमत का औसत निकला जाता है | इसे क्रमिक रूप से कर लेने के बाद सभी मूविंग एवरेज को एक रेखा के माध्यम से मिलाया जाता है जिसे मूविंग एवरेज लाइन कहा जाता है |

कौन सा मूविंग एवरेज लॉन्ग टर्म के लिए बेस्ट है?

जो लोग शेयर बाज़ार में लंबे समय के निवेशक होते है वो अपनी निवेश की स्ट्रेटजी 200 DMA के साथ बनाते है | 200 DMA एक सपोर्ट का कार्य करती है इसलिए जब भी कोई शेयर ट्रेड करते-करते 200 DMA के आस पास पहुचती है तब निवेशक कंपनी के शेयर में निवेश करते है | यदि किसी कंपनी का शेयर 200 DMA के निचे ट्रेड कर रही होती है तो इसका अर्थ है कि कंपनी डाउन ट्रेंड में चली गयी है ऐसे में हमें निवेश नहीं करना चाहिए |

सारांश(Summary):-

मेरे प्रिय पाठकों आज के इस लेख “Moving Average क्या होता है | SMA तथा EMA को कैसे समझे Full Details” में हम सबने जाना कि मूविंग एवरेज क्या होता है, इसका प्रयोग कैसे किया जाता है, साधारण मूविंग एवरेज(simple moving average – SMA) तथा एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज (Exponential Moving Average या EMA) क्या होता है, शेयर बाज़ार में एक ट्रेडर इसका प्रयोग कर कैसे ट्रेड बनाते है तथा मुनाफा बनाते है, के बारे में विस्तार से चर्चा किया |

मै आशा करता हूँ कि अब आपको मूविंग एवरेज से जुड़े सभी सवालों के जबाब मिल गए होंगे साथ ही हम आशा करते है कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा है | यदि आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें |

यदि आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो तो हमें कमेन्ट करें या आप हमें contact@finohindi.com पर मेल कर सकते है | आप हमसे लगातर जुड़े रहने के लिए आप हमारे Facebook पेज, Twitter पेज तथा Telegram चैनल पर हमसे जुड़ सकते है |

Sharing Is Caring:

हेल्लो दोस्तों, मै पिछले 8 वर्षो से शेयर बाज़ार में निवेश तथा रिसर्च कर रहा हूँ | मै अपने अनुभव को Finohindi के माध्यम से आपके साथ सच्चाई के साथ सीधे तथा साफ शब्दों में बाटना चाहता हूँ | यदि आप शेयर बाज़ार में निवेश, ट्रेड करते है या आपकी शेयर बाज़ार में रूचि है तो आप सही जगह पर है

2 thoughts on “Moving Average क्या होता है | SMA तथा EMA को कैसे समझे Full Details”

Leave a Comment

स्पिनिंग टॉप कैंडलस्टिक पैटर्न / Spinning Top Candlestick Pattern आवधिक कॉल नीलामी क्या है / Periodic Call Auction in Hindi मॉर्निंग स्टार कैंडलस्टिक पैटर्न / Morning Star Candlestick Pattern In Hindi GSM कैटेगरी क्या है / GSM Category Meaning In Hindi तीन काले कौवे कैंडलस्टिक पैटर्न / Three Black Crows Candlestick Pattern Full Details In Hindi