एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance Decline Ratio) Full Detail in Hindi

आज हम एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance Decline Ratio) Full Detail in Hindi के इस लेख में जानेंगे कि शेयर बाज़ार में एडवांस/डिक्लाइन रेशियो किसे कहा जाता है | इसे किस प्रकार से ज्ञात सकते है, तथा ट्रेडर किस प्रकार से शेयर बाज़ार में एडवांस/डिक्लाइन रेशियो का क्या उपयोग कर ट्रेडिंग करते है |

एडवांस/डिक्लाइन-Advance Decline

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो को समझने के पहले आपको यह जानना आवश्यक है कि एडवांस तथा डिक्लाइन किसे कहा जाता है |

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance Decline Ratio) Full Detail in Hindi

पॉजिटिव या अपट्रेंड मूवमेंट वाले शेयर को एडवांस माना जाता है तथा निगेटिव या डाउनट्रेंड मूवमेंट वाले शेयर को डिक्लाइन माना जाता है | सपोर्ट तथा रजिस्टेंस

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance Decline Ratio)

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance-Decline ratio) टेक्निकल एनालिसिस का एक प्रमुख इंडिकेटर है, जिसका प्रयोग शेयर बाज़ार के मोमेंटम को जानने के लिए किया जाता है | 

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो = बढ़ने वाले शेयर / गिरने वाले शेयर 

अर्थात यदि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो की वैल्यू 1 से अधिक है तो इसका अर्थ है कि बाज़ार में तेज़ी का रुख है, लेकिन यदि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो की वैल्यू 1 से कम है, तो इसका अर्थ है कि शेयर बाज़ार का रुख मंदी की ओर है || शेयर बाज़ार से शेयर खरीदने तथा बेचने का उत्तम समय 

एडवांस/डिक्लाइन रेशियों का बाज़ार पर प्रभाव – Market Impact of Advance Decline Ratio

आप मासिक आधार पर एडवांस/डिक्लाइन की गणना कर शेयर बाज़ार के रुख का अंदाज़ा लगा सकते है | आम तौर पर जब शेयर बाज़ार अपने सपोर्ट पर होता है, तो एडवांस/डिक्लाइन रेशियो में तेज़ी आने लगाती है, जिससे बाज़ार के तेज़ होने का अंदाज़ा लग जाता है  | 

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance Decline Ratio) Full Detail in Hindi

ठीक इसी प्रकार जब बाज़ार अपने रेजिस्टेंस पर होता है तब एडवांस/डिक्लाइन रेशियो में गिरावट आने लगती है, जिससे बाज़ार के मंदा होने का अदाज़ा लगाया जाता है | ट्रेडिंग क्या है ?

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो के महत्वपुर्ण बिंदु – Important Points of Advance Decline Ratio

  1. बाज़ार की शुरुआत में आप एडवांस/डिक्लाइन रेशियो को देखकर उस दिन के  बाज़ार का मुवंनेट का अंदाज़ा लगा सकते है |
  2. यह एक टेक्निकल एनालिसिस टूल है, जिसका प्रयोग शेयर बाज़ार के ट्रेंड को जानने के लिए किया जाता है |
  3. यदि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो 1 से अधिक हो बाज़ार तेज़ तथा यदि 1 से कम हो बाज़ार मंदा मानकर आप ट्रेड ले सकते है 
  4. एडवांस/डिक्लाइन रेशियो अलग-अलग टाइम फ्रेम में अलग-अलग होता है जैसे – मिनट, घंटा, दिन, सप्ताह, महीना आदि |

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो कैसे कार्य करता है-How Advance Decline Ratio Works

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो जितना कम होता है बाज़ार में उतना ही बिकवाली हावी होता है | यदि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो 0 है तो इसका अर्थ है कि बाज़ार के किसी भी शेयर में खरीदारी नहीं की जा रही है | ऐसी स्थिति में बाज़ार में लोअर सर्किट लग जाता है |
 
सामान्यतः शेयर बाज़ार में ऐसी स्थिति नही आती है | ऐसी स्थिति तभी आ सकती है जब देश पर कोई बहुत बड़ी विपत्ति आ गयी हो | म्युचुअल फंड क्या है इसमें किसे निवेश करे ?
 
एडवांस/डिक्लाइन रेशियो के मुवेमेंट के औसत को निफ्टी 50 / निफ्टी बैंक से तुलना कर आप यह जान सकते है कि कही शेयर बाज़ार का मुवेमेंट कुछ गिनी चुनी कंपनियों द्वारा तो नहीं है | यह तुलना आपको बाज़ार के चाल को समझने में मदद करेगी |
 
किसी भी ट्रेडर के लिए टेक्निकल एनालिसिस करने के लिए मार्केट के दिशा का अनुमान होना बहुत ही आवश्यक है | चूँकि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो शेयर बाज़ार का मूवमेंट बताती है | इस लिहाज से एडवांस/डिक्लाइन रेशियो  टेक्निकल एनालिसिस के लिए बहुत ही उपयोगी है | प्राइस एक्शन ट्रेडिंग क्या है ?
 

एडवांस डिक्लाइन रेशियो का प्रयोग – Use of  Advance Decline Ratio

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो का प्रयोग दो तरह से किया जा सकता है | एडवांस/डिक्लाइन रेशियो का पहला प्रयोग संख्या के रूप में किया जाता है जो यह दर्शाता है कि शेयर बाज़ार की अधिकतर शेयर तेज़ी में है या मंदी में |
 
एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance Decline Ratio) Full Detail in Hindi
 
 एडवांस/डिक्लाइन रेशियो का एक अन्य प्रयोग में यह जाना जाता है कि शेयर बाज़ार का ट्रेड पॉजिटिव है या निगेटिव | शेयर बाज़ार में एडवांस/डिक्लाइन रेशियो का लगातार कम-ज्यादा होना, शेयर बाज़ार के वोलेटिलिटी को दर्शाता है | शेयर बाज़ार में निवेश के नियम
 

एडवांस/डिक्लाइन रेशियों चार्ट – Advance Decline Ratio Chart

NSE एडवांस/डिक्लाइन चार्ट में एक पाई चार्ट होता है जो स्पष्ट रूप से एडवांस NSE शेयर के प्रतिशत के साथ साथ डिक्लाइन स्टॉक के प्रतिशत को भी दर्शाता है | एडवांस/डिक्लाइन रेशियों चार्ट में बढ़ने वाले शेयर की संख्या तथा गिरने वाले शेयर को दैनिक आधार पर नोट क्या जाता है | यह एक संचयी इंडिकेटर है | IPO क्या होता है ?
 

इस लेख से सम्बंधित प्रश्नोत्तरी

एडवांस एंड डिक्लाइन रेशियो क्या है?

शेयर बाज़ार में बढ़ने वाले तथा गिरने वाले शेयर की संख्या के अनुपात को एडवांस/डिक्लाइन रेशियो कहा जाता है |
अतः एडवांस/डिक्लाइन रेशियो = बढ़ने वाले शेयर / गिरने वाले शेयर 

अर्थात यदि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो की वैल्यू 1 से अधिक है तो इसका अर्थ है कि बाज़ार में तेज़ी का रुख है, लेकिन यदि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो की वैल्यू 1 से कम है, तो इसका अर्थ है कि शेयर बाज़ार का रुख मंदी की ओर है |

एक अच्छा अग्रिम गिरावट अनुपात क्या है?

यदि  एडवांस/डिक्लाइन रेशियो की वैल्यू 1 से अधिक आता है तो इसे अच्छा अग्रिम गिरावट अनुपात या अच्छा  एडवांस/डिक्लाइन रेशियो कहा जाता है | इसका कारण है कि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो की वैल्यू 1 से अधिक होने से बाज़ार में तेज़ी के रुख का अंदाज़ा लगाया जाता है |एडवांस/डिक्लाइन रेशियो बाज़ार में मोमेंटम को दर्शाता है |

एडवांस/डिक्लाइन रेशियो कैसे कार्य करता है ?

शेयर बाज़ार में एडवांस/डिक्लाइन रेशियो का बड़ा ही महत्व है | जब एडवांस/डिक्लाइन रेशियो की वैल्यू 1 से अधिक होता है तो ट्रेडर तेज़ी का ट्रेड लेकर अपना लाभ बनाते है लेकिन यदि एडवांस/डिक्लाइन रेशियो की वैल्यू 1 से कम होता है तो इसका अर्थ है कि बाज़ार में मंदी का दौर है | यहाँ ट्रेडर मंदी का ट्रेड लेते है तथा अपना लाभ बनाते है |

एडवांस/डिक्लाइन रेशियों चार्ट - Advance Decline Ratio Chart क्या है ?

NSE एडवांस/डिक्लाइन चार्ट में एक पाई चार्ट होता है जो स्पष्ट रूप से एडवांस NSE शेयर के प्रतिशत के साथ साथ डिक्लाइन स्टॉक के प्रतिशत को भी दर्शाता है | एडवांस/डिक्लाइन रेशियों चार्ट में बढ़ने वाले शेयर की संख्या तथा गिरने वाले शेयर को दैनिक आधार पर नोट क्या जाता है | यह एक संचयी इंडिकेटर है |

 

सारांस(Summary)

 मै आशा करता हूँ की एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance Decline Ratio) क्या है तथा इसका शेयर बाज़ार में किस प्रकार से प्रयोग किया  जाता है अच्छे से जानकारी हो गयी होगी | अब आप एडवांस/डिक्लाइन रेशियो (Advance Decline Ratio) का प्रयोग कर बाज़ार के मूवमेंट का लाभ उठा सकते है |

यदि आपको हमारा पोस्ट अच्छा लगा हो कृपया हमें कमेन्ट अवश्य करें | यदि आपके पास हमारे लिए कोई सवाल हो तो आप हमें contact@finohindi.com पर मेल कर सकते है | आप हमसे लगातर जुड़े रहने के लिए आप हमारे Facebook पेज, Twitter पेज तथा Telegram चैनल पर हमें Follow कर सकते है |

Sharing Is Caring:

हेल्लो दोस्तों, मै पिछले 8 वर्षो से शेयर बाज़ार में निवेश तथा रिसर्च कर रहा हूँ | मै अपने अनुभव को Finohindi के माध्यम से आपके साथ सच्चाई के साथ सीधे तथा साफ शब्दों में बाटना चाहता हूँ | यदि आप शेयर बाज़ार में निवेश, ट्रेड करते है या आपकी शेयर बाज़ार में रूचि है तो आप सही जगह पर है

Leave a Comment

स्पिनिंग टॉप कैंडलस्टिक पैटर्न / Spinning Top Candlestick Pattern आवधिक कॉल नीलामी क्या है / Periodic Call Auction in Hindi मॉर्निंग स्टार कैंडलस्टिक पैटर्न / Morning Star Candlestick Pattern In Hindi GSM कैटेगरी क्या है / GSM Category Meaning In Hindi तीन काले कौवे कैंडलस्टिक पैटर्न / Three Black Crows Candlestick Pattern Full Details In Hindi